Quote

Back in ‘Bold’

STOP!
Turn around, ask yourself what’s kept you going.

LOOK!
You’ll see the hundred demons at their abandoned best.

PROCEED!
The world around demands to unleash thy optimism.

You’re a broken jar of retained and restricted hope,
peering through misty glasses to bid failure its sheer luck.
You’re a broken jar of assaulted dreams, that
digs something out of every nothing.
You’re a broken jar of faulty convictions,chained foetus
and silent blood that wishes to drown to the rocks.

These rocks?
No, they aren’t at fault but their composition…

These glasses?
No, they didn’t harm my vision but their pieces…

That voice?
No, that isn’t mine but of my demons crying.

Advertisements

बूँद।

टिप!टिप! टिप! वो बरसती गई, साँसे थमती गई
पायल कि छन क्या हुई, धरकन रुक सी गई।

चाहत की तलाश में ठोकरे काफी खाई,
बेखौफ़ थी,
मानो खिड़कियों पर पैगाम रोज़ देने आयी।

टिप! टिप! टिप!
वो बरसती गई, साँसे थमती गई।

गरजती बादलों से घबराये, मदद् काफ़ी माँगी
आँखो से बरसती उन धाराओं पर नज़र किसी की ना पड़ी?

कराते दर्द में मदहोश सी बरसती रही,
शुन्य ही थी,
फिर बूंदों में जा मिल सी गई ।

आज फिर छा जा तू।

रोती तो है, पर समझती नहीं,
हँसती तो है, पर मुस्कुराती नहीं,
उड़ने कि चाह है, पर जीती नहीं,
गिरने कि डर है, पर मौत से खौफ नहीं।

इस चेहरे का राज़ तो बताना,
क्या दिन को हँसना और रात तक रोना?

ज़िंदगी फिर तो अस फकीर कि ही अच्छी है
जिसने राह भटककर खुशी पा ली,

हाथ फैलाये और सर झुकाय दो रोटी माँग ली।

दरमियाँ…

दरमियाँ…

मोहताज नहीं मैं तेरे समय की,
कि दरमियों में झुलझती रहूँ।
मोहताज नहीं मैं तेरे बातों की,
कि दृढ़ता पाले बस सुनती रहूँ ।।

पाया है खुद को नफ़रत का साँफा ओढ़े,
खोया है खुद को तेरी तनहाईयों मे ढ़ेले।
वक्त का अहसास नहीं,
मिलकर बिछड़ने की डर भी गई,
अब दिल में तेरी चाह जलाए,
होश में मानो मदहोश सी रहीं ।।

It was You…

Love stories are cliched with
                       heartbreaks and tender pain
I for you and you for me
                      was a new world of gain.

Feverish eyes glaring at mine,
                we possibly sensed every sigh.
With denial upfront and love afar
               we hoped for many a breaking star.

Lips dry, eyes numb, hope dead,
           the fire of passion wasn’t dull red.
You read me with a touch
                knowing a man was what I longed for much.

Sealed up your broken heart,
           you melted into me like an apple tart
Ringing laughter, low belt humour,
               with no promise at all, we hit a start.

Raped, broken,tied punished
Hate, fallen,died, carried
We were synonyms for each other’s lives
I believe, “Love always finds a way to strive”.