बूँद।

टिप!टिप! टिप! वो बरसती गई, साँसे थमती गई
पायल कि छन क्या हुई, धरकन रुक सी गई।

चाहत की तलाश में ठोकरे काफी खाई,
बेखौफ़ थी,
मानो खिड़कियों पर पैगाम रोज़ देने आयी।

टिप! टिप! टिप!
वो बरसती गई, साँसे थमती गई।

गरजती बादलों से घबराये, मदद् काफ़ी माँगी
आँखो से बरसती उन धाराओं पर नज़र किसी की ना पड़ी?

कराते दर्द में मदहोश सी बरसती रही,
शुन्य ही थी,
फिर बूंदों में जा मिल सी गई ।

Advertisements

आज फिर छा जा तू।

रोती तो है, पर समझती नहीं,
हँसती तो है, पर मुस्कुराती नहीं,
उड़ने कि चाह है, पर जीती नहीं,
गिरने कि डर है, पर मौत से खौफ नहीं।

इस चेहरे का राज़ तो बताना,
क्या दिन को हँसना और रात तक रोना?

ज़िंदगी फिर तो अस फकीर कि ही अच्छी है
जिसने राह भटककर खुशी पा ली,

हाथ फैलाये और सर झुकाय दो रोटी माँग ली।

दरमियाँ…

दरमियाँ…

मोहताज नहीं मैं तेरे समय की,
कि दरमियों में झुलझती रहूँ।
मोहताज नहीं मैं तेरे बातों की,
कि दृढ़ता पाले बस सुनती रहूँ ।।

पाया है खुद को नफ़रत का साँफा ओढ़े,
खोया है खुद को तेरी तनहाईयों मे ढ़ेले।
वक्त का अहसास नहीं,
मिलकर बिछड़ने की डर भी गई,
अब दिल में तेरी चाह जलाए,
होश में मानो मदहोश सी रहीं ।।

It was You…

Love stories are cliched with
                       heartbreaks and tender pain
I for you and you for me
                      was a new world of gain.

Feverish eyes glaring at mine,
                we possibly sensed every sigh.
With denial upfront and love afar
               we hoped for many a breaking star.

Lips dry, eyes numb, hope dead,
           the fire of passion wasn’t dull red.
You read me with a touch
                knowing a man was what I longed for much.

Sealed up your broken heart,
           you melted into me like an apple tart
Ringing laughter, low belt humour,
               with no promise at all, we hit a start.

Raped, broken,tied punished
Hate, fallen,died, carried
We were synonyms for each other’s lives
I believe, “Love always finds a way to strive”.

Reconciliation

As the word suggests, reconciliation is getting back to the previously followed order of life. But everytime on a quest of reconciliation, I avoid following or curbing myself tot he previous me and my mundane tyrannies. With an aching heart and terrific resilience I decide to break the shackles that make me cling to the cause of my agitation.

I am therefore a whole new me. A me for me, of me and by me. A me whom they will look up at and feel inspired. A me who will bask in self-love derived from a broken heart. A me who will smile a little less than a fake smile and enlighten lives associated with positive vibes,healing voice and an awe-inspiring disposition.